आत्महत्या के लिए उकसाने का केस:बॉम्बे HC ने अर्नब गोस्वामी को दी अंतरिम राहत, सुनवाई के दौरान मजिस्ट्रेट के सामने पेश होने से छूट मिली

1 month ago
Hindi NewsLocalMaharashtraArnab Goswami | Interior Designer Anvay Naik Suicide Case Update; Republic Tv Editor in chief Gets Relief From Bombay High Court

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबईएक मिनट पहले

कॉपी लिंक

11 नवंबर 2020 की यह तस्वीर नवी मुंबई के तलोजा जेल के बाहर की है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जमानत पर रिहा हुए अर्नब गोस्वामी को लेने के लिए कई हजार लोग जेल के बाहर मौजूद थे । - Dainik Bhaskar

11 नवंबर 2020 की यह तस्वीर नवी मुंबई के तलोजा जेल के बाहर की है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जमानत पर रिहा हुए अर्नब गोस्वामी को लेने के लिए कई हजार लोग जेल के बाहर मौजूद थे ।

इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक की आत्महत्या के मामले में रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को बॉम्बे हाईकोर्ट से एक बड़ी राहत मिली है। अदालत ने इस केस की सुनवाई के दौरान उन्हें अलीबाग कोर्ट में फिजिकल अपीयर होने से राहत दे दी है। इस मामले में 10 मार्च को मजिस्ट्रेट कोर्ट में सुनवाई होनी है। अर्नब ने हाई कोर्ट में अपने खिलाफ दर्ज FIR को रद्द करने की गुहार भी लगाईं है। जिसपर अदालत 16 अप्रैल को सुनवाई करेगा।

जमानत पर बाहर हैं अर्नब गोस्वामी

गौरतलब है कि अर्नब और फिरोज शेख और नितेश सारडा को 4 नवंबर 2020 को अलीबाग में रहने वाले इंटीरियर डिजाइनर अन्‍वय नायक और उनकी मां को वर्ष 2018 में आत्‍महत्‍या के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। 11 नवंबर 2020 को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद फिलहाल वे जमानत पर बाहर हैं। अर्नब और इन दोनों पर अन्‍वय के बकाया का भुगतान नहीं करने का आरोप है।

रायगढ़ पुलिस इस मामले में दायर कर चुकी है चार्जशीट
अर्नब के खिलाफ महाराष्ट्र पुलिस द्वारा दर्ज आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज है। इस मामले में रायगढ़ पुलिस 1900 पन्नों की चार्जशीट भी दायर कर चुकी है। जिसमें 65 लोगों को का बयान दर्ज हुआ है। अर्नब के साथ फिरोज शेख और नितेश सारडा को भी इसमें आरोप बनाया गया है। सभी पर आईपीसी की धारा 306 के तहत आरोप लगाया गया है।

वो मामला जिसमें अर्नब की हुई गिरफ्तारी

इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक, अपनी मां कुमुद नाइक के साथ, मई 2018 में अलीबाग में उनके बंगले में मृत पाए गए थे। अन्वय बंगले के पहली मंजिल पर लटका हुआ पाया गया था। घटना के बाद एक सुसाइड नोट मिला था, जो कथित तौर पर अन्वय ने लिखा था।

इस सुसाइड नोट में अन्वय ने आरोप लगाया था कि अर्नब गोस्वामी और दो अन्य लोगों ने 5.40 करोड़ रुपए का भुगतान नहीं किया है, जिसके चलते उन्हें आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें तीन कंपनियों के मालिकों द्वारा बकाया पैसों की मंजूरी नहीं दी गई थी जिसमें रिपब्लिक टीवी के अर्नब गोस्वामी, आई कास्ट/स्काई मीडिया फिरोज शेख और स्मार्ट वर्कर्स के नीतीश सारडा शामिल हैं। जांच में पता चला की अन्वय कर्ज में था और कर्ज चुकाने के लिए संघर्ष कर रहा था। पुलिस ने भी कहा था कि अन्वय ने आत्महत्या की थी।

अन्वय का सुसाइड नोट..

Article Source