ऐसे पुजारियों से भगवान बचाए, मंदिर की फर्जी वेबसाइट बनाकर भक्तों को लगाई 20 करोड़ की चपत

1 month ago

कर्नाटक में फर्जी वेबसाइट के जरिए पुजारियों ने ठगे 20 करोड़ रुपए (सांकेतिक तस्वीर)

कर्नाटक में फर्जी वेबसाइट के जरिए पुजारियों ने ठगे 20 करोड़ रुपए (सांकेतिक तस्वीर)

Karnataka: कर्नाटक में कलबुर्गी जिले में पुजारियों के एक समूह ने कथित तौर पर देवलगनापुर मंदिर के नाम पर फर्जी वेबसाइट बनाई और भक्तों से दान में करोड़ों रुपये की ठगी की. खुलासा होने के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है लेकिन आरोपियों का पता नहीं चल पाया है. इन साइट्स के जरिए पिछले चार वर्षों में 20 करोड़ रुपये की फीस और दान स्वीकार किए. इस राशि को उनके व्यक्तिगत बैंक खातों में भेजा गया.  

अधिक पढ़ें ...

News18HindiLast Updated : June 25, 2022, 18:43 ISTEditor default picture

बेंगलुरु: कर्नाटक में धर्म के नाम पर ठगी का एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. कलबुर्गी जिले (Kalaburagi District in Karnataka) में पुजारियों के एक समूह ने कथित तौर पर देवलगनापुर मंदिर के नाम पर फर्जी वेबसाइट बनाई और भक्तों से दान में करोड़ों रुपये की ठगी की. खुलासा होने के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है लेकिन आरोपियों का पता नहीं चल पाया है.

उत्तरी कर्नाटक के अफजलपुर तालुक में गंगापुर नदी पर स्थित इस मंदिर न केवल कर्नाटक से बल्कि पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र और तेलंगाना से भी भक्त पहुंचते हैं. श्री दत्तात्रेय मंदिर के देवता हैं.

पुलिस के अनुसार पुजारियों ने दत्तात्रेय देवालय, गंगापुर दत्तात्रेय मंदिर, श्री क्षेत्र दत्तात्रेय मंदिर जैसे नामों से लगभग 8 वेबसाइट्स बनाईं. इन साइट्स के जरिए पिछले चार वर्षों में 20 करोड़ रुपये की फीस और दान स्वीकार किए. इस राशि को उनके व्यक्तिगत बैंक खातों में भेजा गया. उन्होंने विभिन्न पूजा और अन्य अनुष्ठानों के लिए 10,000 रुपये से 50,000 रुपये शुल्क लिया.

ऑडिट रिपोर्ट में हुआ खुलासा

इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के अनुसार, इस धोखाधड़ी का खुलासा हाल ही में हुई एक ऑडिट बैठक में हुआ. सूत्रों ने कहा कि हाल ही में एक साइबर फोरेंसिक ऑडिट की प्रारंभिक रिपोर्ट में बताया गया है कि लगभग 2,000 भक्तों ने नकली वेबसाइटों के माध्यम से पैसे का भुगतान किया था.

पुलिस को इस बात का भी शक है कि पुजारियों ने मंदिर की दान पेटियों से भी पैसे निकाले थे. इस घटना के सामने आने के बाद, हमने सीसीटीवी फुटेज की जाँच की. जिस दिन दान पेटियों से पैसे गिने गए, सीसीटीवी कैमरों को या तो डायवर्ट कर दिया गया या नकाबपोश कर दिया गया. कालाबुरागी के उपायुक्त यशवंत गुरुकर ने आरोपी पुजारियों से पैसे की वसूली के आदेश दिए हैं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

Tags: Fake documents, Karnataka

FIRST PUBLISHED :

June 25, 2022, 18:38 IST

Read Full Article at Source