Iran के Revolutionary Guards ने नाकाम किया Plane Hijack Plan, 100 से ज्यादा यात्री थे सवार

1 month ago
iran

ईरान ने बताया कि विमान गुरुवार रात अहवाज हवाई अड्डे से 10 मिनट की देरी से रवाना हुआ था. इस दौरान विमान में सवार एक अपराधी ने उसे हाईजैक करने का प्रयास किया. वह विमान को फारस की खाड़ी के दक्षिणी किनारे पर उतारना चाहता था, लेकिन सुरक्षा बलों ने उसकी साजिश नाकाम कर दी.  

तेहरान: ईरान (Iran) ने एक यात्री विमान के अपहरण की कोशिश नाकाम कर दी है. इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स (Islamic Revolutionary Guards Corps-IRGC) और वायुसेना ने मिलकर 100 यात्रियों वाले इस जहाज को हाईजैक (Hijack) होने से बचाया. जानकारी के अनुसार, बृहस्पतिवार रात एक यात्री विमान का उड़ान के दौरान अपहरण का प्रयास किया गया, लेकिन सुरक्षा बलों ने समय रहते कार्रवाई करके इस प्रयास को नाकाम कर दिया. विमान दक्षिण-पश्चिमी शहर अहवाज से उत्तर-पश्चिम के शहर मशहाद जा रहा था.

सभी Passengers सुरक्षित 

ईरान ने अपहरणकर्ता के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है. उसकी तरफ से केवल इतना कहा गया है कि ईरान एयर की फ्लाइट को मध्य ईरानी शहर इस्फहान में आपातकालीन परिस्थिति में उतारा गया. इस घटना में कोई यात्री हताहत नहीं हुआ है. विमान को हाईजैक (Hijack) करने का प्रयास करने वाले को गिरफ्तार कर लिया गया है. विमान में 100 से ज्यादा यात्री सवार थे.

ये भी पढ़ें -Myanmar आर्मी ने प्रदर्शनकारियों को दी कत्लेआम की धमकी, TikTok वीडियो में कहा - बाहर निकले तो मार देंगे गोली

यह थी योजना 

IRGC ने बताया कि उड़ान संख्या 334 गुरुवार रात 10 बजकर 10 मिनट पर अहवाज हवाई अड्डे से 10 मिनट की देरी से रवाना हुई. इस दौरान विमान में सवार एक अपराधी ने उसे हाईजैक करने का प्रयास किया. वह विमान को फारस की खाड़ी के दक्षिणी किनारे पर उतारना चाहता था. हालांकि, समय रहते कार्रवाई की वजह से वह अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो सका.

Investigation में जुटीं एजेंसियां

इस घटना ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं. सुरक्षा एजेंसियां यह पता लगाने का प्रयास कर रही हैं कि अपहरणकर्ता का मकसद किया था, क्या उसने किसी के इशारे पर विमान को हाईजैक करने की कोशिश की या फिर इसके पीछे कोई और वजह है. पूरे ऑपरेशन के दौरान किसी भी यात्री को कोई चोट नहीं आई है. इमरजेंसी लैंडिंग के बाद सभी यात्रियों को वैकल्पिक उड़ानों के जरिए उनके गंतव्य तक पहुंचाया गया.

Article Source